Friday, June 6, 2008

खामोशी

खामोशी असर रखती है ऐसा सुना था कही.
मगर आज खामोश दिल को बस टूटेते देखा है
रखा किसी ने अपना दिल खोल कर यू की
मेरी दिल के चटकने की भी आवाज़ न सुन सका कोई

कहते है की दर्द उनका मुझसे जुड़ा है
तड़पो में तो आँख उनकी गीली होती है
जब में रोई तो उनके होंठों पर......
मुस्कराहट की नमी थी .........
हसीन से जिंदगी थी उनकी......

शायद जिंदगी में नयी थी कोई ...
Post a Comment