Sunday, August 28, 2011

फेसबूक


बेकार के दीवाने थे
बेकार का छुपाना था
न जाने क्यो गलियो
से छुप-छुप निकला करते थे
अजब सा पागलपन था ....
माँ के आँचल में बेठ
माँ की आज़ादी के
सपने बुनते थे
एक माँ को बिन
बोले दूसरी माँ के लिए
जान पल मे दे देते थे...
----------------------------------------------------

काश की आज़ादी के
वक़्त भी फेसबूक होता
हर दो कदम पर दीवानो का
कुछ और स्टेटस होता
जान देने से पहले गले में
फंदा लगाकर फोटो लेते
और फसेबूक पर सबकी कॉमेंट पढ़ते
;)
Post a Comment